परीक्षा सिर पर है अब पढ़ाई कैसे करें

अपनी एक पोस्ट परीक्षा में सफलता के रहस्य में मैंने परीक्षा में सफलता के लिए पढ़ाई कैसे करें इसकी जानकारी दी थी। जिसमें मैंने समय के सदुपयोग और अलग-अलग तरीकों से तैयारी करने के बारे में बताया था।

अब इस पोस्ट में जब परीक्षा एकदम पास हो तब तैयारी कैसे करें इस विषय पर कुछ तरीके मैं बताना चाहता हूँ। क्योंकि जब आपका सत्र शुरू होता है तो अलग तरीके से पढ़ाई की जाती है जबकि परीक्षा पास आने पर पढ़ाई का तरीका बदल जाता है।

Don’t Lose Hope लगे रहें

जब परीक्षा सर पर हो तो भी हमें हार नहीं माननी चाहिए। भले ही आपने पूरे सत्र में अच्छे से पढाई ना की हो पर अब भी आपके पास सफल होने का अवसर है और इस अवसर का पूरा उपयोग करें। हो सकता है की आपने परीक्षा के लिए जो लक्ष्य बनाया हो अब आपको लगता हो की आप उसे प्राप्त नहीं कर पायेंगे पर उम्मीद छोड़ देने से बेहतर है कि आप लगे रहें। क्योंकि तभी आप निराश होकर मेहनत छोड़ देने की तुलना में बेहतर परिणाम प्राप्त कर पायेंगे और हो सकता है की आप अपने लक्ष्य को भी प्राप्त कर सकें।

अक्सर जब हम निराश होते हैं तो हम हर बात में बुरी से बुरी स्थिति (Worst Case Scenario) के बारे में सोचते हैं जैसे की प्रश्नपत्र कठिन आएगा, मैं भूल जाऊँगा, समय काम पड़ जाएगा। पर यह सब आपको तब तक नहीं पता चल सकता जब तक आप परीक्षा दे नहीं लेते। क्योंकि हो सकता है की इस साल प्रश्नपत्र बहुत सरल हो या आपने जो पढ़ा हो वही आए। ये आप पहले से नहीं जानते इसलिए चिंता छोड़ें और लगे रहें।

परीक्षा के प्रारूप का सम्मान करें  Respect Examination Format

यदि कोई खिलाड़ी मरथान दौड़ की तैयारी करता है और यदि उसे १०० मीटर की दौड़ में दौड़ाया जाय तो वह भले ही यह दौड़ पूरी कर ले पर उसके जीतने की संभावना नहीं है। इसी प्रकार यदि कोई खिलाडी १०० मीटर की दौड़ की तैयारी करता है और उसे मैराथन में दौड़ाया जाय तो जीतना तो छोडिये वह शायद मैराथन पूरा भी नहीं कर पायेगा। हाँ शुरू में उसे भले लगे कि वह सबसे तेज और सबसे आगे दौड़ रहा है तो वही जीतेगा, परन्तु कुछ किलोमीटर के बाद स्थितियाँ बदल जाएँगी।

कहने का मतलब है कि आप जो परीक्षा की तैयारी कर रहे हैं उसका एक प्रारूप Format है जिसके अनुसार आपको तैयारी करनी पड़ती है। जैसे कि परीक्षा में प्रश्न का प्रकार बहुविकल्पीय (Objective) है या विवेचनात्मक (Subjective) है, परीक्षा के लिए निर्धारित सिलेबस क्या है? उदहारण के लिए आप किसी विषय पर ५०००० शब्दों का निबंध लिख सकते हैं परन्तु आपकी परीक्षा ३ घंटे की है और जो निबंध लिखना है वो १०० में से मात्र १५ अंकों का है। अब आप ५०००० शब्दों का निबंध लिखने बैठेंगे तो ना तो निबंध ही पूरा लिख पाएंगे ना तो परीक्षा उत्तीर्ण ही कर पायेंगे।

परिणाम पर ध्यान केन्द्रित करें Focus On Results

जब आप कक्षा में पढ़ाई करते हैं तो आपका ध्यान ज्ञान अर्जित करने पर होता है पर जब आप परीक्षा के समय तैयारी करते हैं तो ज्ञान के साथ-साथ परिणाम भी महत्वपूर्ण हो जाता है। जैसे की भले ही आपको बहुर सारा ज्ञान है पर यदि वह परीक्षा में पूछा ही ना जाय या आप उसे उत्तर पुस्तिका में सही ढंग से लिख ही ना पायें तो परीक्षा में अच्छे परिणाम नहीं मिल सकते।

Take Help मदद लें

परीक्षा में सफलता के लिए आपको परिवार के लोगों, शिक्षकों एवं अन्य लोगों से मदद लेने से भी नहीं चूकना चाहिए। यह मदद आप पढ़ाई के अलावा अन्य कार्यों में भी ले सकते हैं जिससे आपका समय बचे।

यह पोस्ट आपको कैसी लगी कमेंट के द्वारा बताएं।

अगर आप हमारी नयी पोस्ट की जानकारी अपने ईमेल पर मुफ्त प्राप्त करना चाहते हैं तो सब्सक्राइब करें।

4 Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *