फेसबुक इतने पैसे कैसे कमाता है? How Does Facebook Earns So Much Money?

आज फेसबुक (Facebook) हर कोई परिचित है। Facebook से हम आपस में connect हो सकते हैं और एक दूसरे का हाल-चाल जान सकते हैं। आप समझ सकते हैं कि फेसबुक आपके कितने काम की चीज है।

Facebook के संस्थापक मार्क ज्युकरबर्ग हैं और कंपनी का नाम फेसबुक इंक. है। फेसबुक के वर्तमान समय में 165 करोड़ एक्टिव मासिक users हैं और फेसबुक की कमाई इस तिमाही में 5.4 बिलियन डॉलर यानि ३६ हजार करोड़ रूपये थी।

आप सोच रहे होंगे फेसबुक इतनी कमाई कैसे करती है? वो आखिर क्या बेचती है जिससे उसे इतनी कमाई होती है?

दोस्तों कोई भी कंपनी दो प्रकार से कमाई कर सकती है। सेवाएँ services देकर या उत्पाद products बेचकर। Facebook हमें सेवाएँ देती है यानि की हम Facebook services use करते हैं। तो क्या हम उसके ग्राहक हैं? किन्तु हम Facebook को कोई पैसा नहीं देते तो फिर हम उसके customer कैसे हुए?

असल में फेसबुक के ग्राहक उसके प्रचारक (advertisers) हैं, और फेसबुक के users उसके लिए उसके उत्पाद यानिकि product हैं, जिसे वह अपने प्रचारकों advertisers को बेचती है।

दरअसल Facebook के पास अपने users की बहुत सी जानकारियाँ रहती हैं जिसके आधार पर कॅम्पनियां targeted advertising कर सकती हैं। इस प्रकार के प्रचार में कॅम्पनियों के प्रोडक्ट्स जिनके लिए होते हैं उन्ही को target करके add दिखाया जाता है अन्य लोगों को नहीं।

आप जो भी जानकारी फेसबुक पर share करते हैं वो Facebook के रिकॉर्ड में रहती है। इससे फेसबुक आपके बारे में बहुत सी बातें जान जाता है।

Facebook आपके बारे में क्या-क्या जान सकता है?

  • आप कितना और कहाँ से पढ़े हैं?
  • आपके परिवार में और कौन कौन हैं?
  • आपके मित्र कौन हैं?
  • आपकी उम्र कितनी है?
  • आप कहाँ घूमने जाते हैं?
  • आप कहाँ रहते है?
  • आप किस पार्टी के समर्थक हैं?
  • आप किस नेता के समर्थक हैं?
  • आप कहाँ काम करते हैं?
  • आप ऑफिस कब जाते हैं?
  • आप घर वापस कब आते हैं?
  • आप किस रेस्तरां में खाना पसंद करते हैं?
  • आप किस-किस देश की यात्रा पर गए थे?
  • आपकी marriage anniversary कब है?
  • आप honeymoon मनाने कहाँ गए थे?
  • आप कौन सा मोबाइल फोन इस्तेमाल करते हैं?
  • आपका phone no और mobile नंबर क्या है?
  • आपने कौन सा नया सामान जैसे घर, मोबाइल या कार खरीदी है?
  • Facebook आपके फोटो को पहचान सकता है तब भी जब आपकी फोटो पीछे से ली गयी हो।

और तो और जो बातें आप स्वयं अपने बारे में नहीं जानते, वो भी Facebook को पता चल जाती हैं जैसे आपके stalker on Facebook कौन हैं?

सबसे बड़ी बात इसमें से ज्यादातर जानकारियाँ आप स्वयं फेसबुक को देते हैं, और बची-खुची कसर आपके Facebook friends पूरी कर देते हैं।

 

Facebook आपकी जानकारी कैसे एकत्र करता है?

  • आपके profile से
  • आपके द्वारा share किये गए फोटो और अन्य पोस्ट्स से
  • आपको tag किये गए फोटो से
  • आपके द्वारा किये गए कमेंट से
  • आपके पोस्ट पर अन्य लोगों द्वारा किये गए कमेंट्स से
  • आपके चैट से
  • आपके द्वारा लाइक किये गए posts से
  • आपके द्वारा पढ़े गए न्यूज़ और articles से
  • facebook इस्तेमाल करने के लिए आपके द्वारा use किये गए devices जैसे मोबाइल, लैपटॉप, tablets से
  • आपके द्वारा join किये गए groups से

Facebook आपकी इन सब जानकारियों को एकत्र कर आपको एक उत्पाद बना देता है। और फिर इस जानकारी से प्रचारकों (advertisers) को अपने platform पर प्रचार (advertise) करने के लिए लुभाता है।

प्रचार करना कोई नयी बात नहीं है। ये सिलसिला सैकड़ों बल्कि हजारों वर्षों से चल रहा है। केवल प्रचार के नये-नये माध्यम निकलते रहते हैं। प्रचार करने के लिए अखबार, पत्रिकाएं, रेडियो, टेलीविज़न आदि साधन तो पहले से ही मौजूद हैं इनमे एक नया माध्यम internet भी जुड़ गया है।

प्रचार के प्रत्येक माध्यम की अलग अलग विशेषताएं होती हैं जो अलग-अलग प्रकार के उत्पादों के प्रचार के लिए उपयुक्त suitable हैं।
हर प्रचारक चाहता है की अपने उत्पाद का प्रचार वह उन्ही लोगों को करे जिसको वह अपना product बेचना चाहता है। और इसी के आधार पर वह प्रचार का माध्यम चुनता है जिससे प्रचार का खर्च कम हो और प्रभाव impact अधिकतम हो।

और इसी लिए advertisers फेसबुक को इतना पसंद करते हैं क्योंकि वो आपके gender, age, location और सबसे बड़ी बात आपके interest के हिसाब से प्रचार दिखा सकते हैं।

फेसबुक के जाने अनजाने आप पर क्या बुरे प्रभाव पड़ सकते हैं जानने के लिए जरूर पढ़ें फेसबुक के आप पर पड़ने वाले बुरे प्रभाव


यह पोस्ट आपको कैसी लगी कमेंट के द्वारा बताएं।

अगर आप हमारी नयी पोस्ट की जानकारी अपने ईमेल पर मुफ्त प्राप्त करना चाहते हैं तो सब्सक्राइब करें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *