बूढ़ा बगुला और केकड़ा ज्ञानवर्धक कहानी

भरी गर्मी की तपती दोपहर में एक बूढ़ा बगुला तालाब के किनारे गर्दन झुकाए शांत भाव से खड़ा था। उसके इस शांत स्वाभाव को देखकर उसके मन में चल रहे भूचालों का अनुमान लगाना मुश्किल था। जीवन में अलग-अलग फेज़ आते हैं। जब हम बच्चे होते हैं तो माँ-बाप हमारी…

पूरा पढ़ें